शेयर मार्केट क्या है / What is Share Market in Hindi ?

शेयर मार्केट क्या है / What is Share Market in Hindi ?

What is Share Market In Hindi ? आज का टॉपिक है Share Market का नाम सुनते ही लोगों के दिमाग में आता है जुआ (Gambling) धोखा,नुकसान तो आज इसी के बारे में जानेंगे क्या है Share Market जुआ या Business सब कुछ जानेंगे …..

शेयर बाजार, जिसे हम Share Market भी कहते हैं, एक ऐसा Market Place जहां पर Companies अपने Stocks या Public को Offer करती हैं और लोगो को मौका देती हैं अपनी Company में निवेश करने का ।

यह एक तरह का Financial Market है जहां Stock, Bond, Comodity, Currencies और Derivatives जैसे Financial Tools Trade होते हैं। शेयर बाजार में निवेशक अपने पैसे को स्टॉक में निवेश करके कंपनी में निवेश करते हैं, जिसके फलस्वरूप Companies उन्हें अपने Profit का हिस्सा देती हैं ।

शेयर बाजार का मुख्य उद्देश्य होता है Capital Gain या फिर Arrange करना है , जिससे Companies अपने कारोबार का विस्तार करने के लिए Funds Generate करती हैं। Investors को कंपनी के शेयर खरीदने का मौका मिलता है, जिससे उन्हें कंपनी की ग्रोथ और मुनाफे का हिस्सा Profit या Return के रूप में मिलता है। Stock Market के माध्यम से Investors अपने पैसे को Long Term या Short Term के लिए Invest करते हैं और मुनाफा Profit 🤑 कमाते हैं ।

What is Share Market in Hindi
Share Market, stock market ,trading kya hota hai

शेयर क्या होता है ?

शेयर मतलब हिस्सा। जब आप शेयर बाजार में किसी कंपनी का शेयर खरीदते हैं तो इसका मतलब है कि आपने उस कंपनी में हिस्सेदारी खरीदी है और अब आप उस कंपनी के कुछ हिस्से के मालिक बन चुके हैं। शेयर को ही हम इक्विटी या स्टॉक भी कहते हैं

लेकिन आधुनिक युग में शेयर मार्केट सिर्फ इतना ही नहीं है कि आप शेयर खरीद या बेच सको अब शेयर मार्केट और भी ज्यादा Advance हो चुका है और अब आप शेयर मार्केट के अंदर Investing के साथ साथ Trading भी कर सकते हो अब क्या होता है Trading ? Trading के कितने प्रकार हैं ? ट्रेडिंग कैसे होती है ? सब कुछ जानते हैं लेकिन उससे पहले ये जान लो Share Market में कोई कंपनी खुद को कैसे Register करें।

किसी भी कंपनी को Share Market में List कैसे करें ?

किसी भी कंपनी को शेयर मार्केट में लिस्ट करने के लिए, उस कंपनी को सबसे पहले अपना IPO (Initial Public Offering ) Launch करना होता है। IPO के माध्यम से कंपनी अपने शेयर जनता के लिए उपलब्ध कराती है। इसके लिए, Company को Regulatory Authority की सभी Policies को फॉलो करते हुए IPO Process को पूरा करना होता है ।

IPO Process में Company , Financial Statement, Business Plan, और Valuation के बारे में Tranceparency के साथ Complete Information Provide करनी होती है । Regulatory Authorities उस Information का review करती हैं और अगर सब कुछ सही होता है, तो Company को Share Market में List किया जाता है ।

IPO Process में कंपनी अपने शेयरों का मूल्य तय करती है। इस कीमत को “Offer Price” या “Issue Price” कहा जाता है। Public को शेयर के लिए अप्लाई करने का मौका दिया जाता है और उन्हें शेयर अलॉट किए जाते हैं। ये शेयर उनको “प्राइमरी मार्केट” में मिलते हैं।

जब आईपीओ की प्रक्रिया पूरी हो जाती है, तो कंपनी के शेयर “सेकेंडरी मार्केट” Secondary Market में में ट्रेड होने लगते हैं। Secondary Market में जनता और Investors के शेयरों को खरीदा या बेचा जा सकता है। इस तरह से कंपनी अपने शेयरों को सार्वजनिक रूप से ट्रेड करने का मौका देती है।

Share Market For Beginners

सबसे पहले, Share Market के बुनियादी नियम समझना जरूरी है। शेयर बाज़ार में “शेयर” एक कंपनी का हिस्सा होता है। जब आप शेयर बाजार में निवेश करते हो, तो आप कंपनी के शेयर खरीदते हो और उस कंपनी का हिस्सा बन जाते हो।

शेयर बाज़ार में दो Primary Exchange हैं-

इन्हीं दोनों Exchange की मदद से आप किसी भी Share,Stock,Bond, Commodity, Currency, Derivatives etc को Trade कर सकते हैं या उनमें Invest कर सकते हैं।

शेयर बाजार में Invest करने के लिए आपको डीमैट खाता और ट्रेडिंग खाता खोलना पड़ेगा। डीमैट अकाउंट में आपके शेयर इलेक्ट्रॉनिक रूप से स्टोर होते हैं और ट्रेडिंग अकाउंट से आप शेयर खरीद और बेच सकते हैं।

अगर आप भी शेयर मार्केट में निवेश करना चाहते हैं लेकिन डिमैट अकाउंट ना होना निवेश में एक रुकावट बन रहा है तो अभी नीचे दिए गए लिंक पर जाकर अपना Demat Account बिल्कुल Free में खोलें और अभी से अपनी Trading Journey का शुभारंभ करें Free में Demat Account खोलने के लिए यहां क्लिक करें 👇

Investing और Trading में क्या अंतर है ?

INVESTING: अर्थात् निवेश एक ऐसी प्रक्रिया है जिसके अंदर निवेशक / Investor अपने पैसे को Long Term Period के लिए Invest करता है जिस निवेश के बदले उसे एक अच्छा ROI (Return On Investment) मिलता है ये हर Sector के हिसाब से अलग अलग हो सकता है ।

TRADING: अर्थात् व्यापार एक ऐसी प्रक्रिया है जिसके अंदर व्यापारी अपने पैसे को Short Term Period के लिए Use करता है और सस्ती चीजों को खरीदकर बहुत ही कम समय के अंदर महंगे दामों में बेचकर मुनाफा Profit 🤑 कमा लेता है ।

Trading Kya Hai In Hindi ?

Trading वह प्रक्रिया है जिसमें मुनाफा कमाने के लिए वस्तुओं और सेवाओं को खरीदा या बेचा जाता है। ट्रेडिंग करने वाले लोगों को Traders कहा जाता है। ट्रेडिंग का मकसद चीजों को कम दाम में खरीदना और अधिक दाम में बेचकर प्रॉफिट कमाना होता है।

यदि आप किसी भी चीज को कम दामों में खरीद कर और ज्यादा दामों में एक छोटी सी समय सीमा के अंदर बेचकर मुनाफा कमा लेते हैं तो बधाई हो आप Trader बन चुके हैं ।

You May Also Like -: Volume Weighted Average Price : VWAP Indicator In Hindi

अब बधाई में इसलिए आपको दे रहा हूं कि अब Trader बनने का हर तीसरे बंदे का सपना है अर्थात् Competition बहुत है और इस Competition के दौर में अगर आप ट्रेडर बन चुके हैं तो सच में आप बधाई के पात्र हैं Trading Online/Offline किसी भी मार्केट में की जा सकती है ये जरूरी नहीं कि आप Stocks Derivatives, Commodity या Currency में ट्रेड करते हो आप तब ही ट्रेडर हो अगर आप दाल चावल को भी कम दामों में खरीद कर ज्यादा दामों में कम समय में ही बेचकर मुनाफा Profit कमा लेते हो आप तब भी ट्रेडर ही हो ।

Trading कितने प्रकार की होती है ? / TYPES OF TRADING IN HINDI

Trading दो प्रकार की होती है–

  • Short Term Trading
  • Long Term Trading

Short Term Trading के अंतर्गत lntraday Trading, Swing Trading और Option Trading आती है जबकि Long Term Trading में Delivery और Positional Trading आती है। इसके अलावा Scalping Trading, Algo Trading, Margin Trading, और Mahurat Trading भी Share Market Trading के ही प्रकार हैं।

अब सभी को बारी बारी से विस्तार से समझते हैं ….

Intraday Trading

Intraday Trading short Term Trading के अंतर्गत आती है इसके अंदर ट्रेडर किसी भी शेयर को कम दामों में खरीद कर उसी दिन ज्यादा दामों में बेच देता है अर्थात् एक ही दिन में Share को खरीदना और उसी दिन बेच देना Intraday Trading कहलाता है ।

यहां ध्यान रखने वाली बात ये है कि अगर आप शेयर खरीदते हैं और उस दिन शेयर का दाम आपके द्वारा खरीदे हुए दाम से ऊपर नहीं जाता बल्कि और कम हो जाता है तो आपने नुकसान भी हो सकता है यहां Risk ज्यादा होता है क्योंकि यहां आपको सब कुछ एक ही दिन में करना है ।

Swing Trading

Swing Trading Intraday Trading का ही दूसरा रूप है लेकिन सिर्फ यहां अंतर इतना है कि ये आपको हफ्ते 15 दिन का मौका देता है अपनी किस्मत आजमाने का यहां Trader Price Action को देख कर एक Swing या फिर कह सकते हैं एक Trend को पकड़ कर Trading करते हैं और मुनाफा कमाते हैं यहां रिस्क Intraday से थोड़ा कम है क्योंकि यहां आपको Decsion लेने के लिए ज्यादा समय मिल जाता है ।

Option Trading

ऑप्शन ट्रेडिंग एक ऐसा कांट्रैक्ट है जो खरीदार और विक्रेता को कुछ प्रीमियम राशि देकर एक निश्चित तारीख पर किसी स्ट्राइक प्राइस पर सिक्योरिटी को खरीदने या बेचने का अधिकार देती है। ऑप्शन ट्रेडिंग में कॉल और पुट ऑप्शंस को खरीदा और बेचा जा सकता है मतलब ट्रेड किया जा सकता है।

Option Trading करने लिए लोग Nifty 50 या Bank Nifty जैसे Index का सहारा लेते हैं क्योंकि यहां Premium कम होता है इसके बारे में विस्तार से जानने के लिए यहां क्लिक करें 👇

You May Also Like -: Option Trading क्या है , Option Trading Complete Guide

Positional Trading

Positional Trading Long Term Trading के अंतर्गत आती है यहां लंबे समय के किसी शेयर को खरीद कर Position Hold करते हो और एक साल दो साल तीन साल अपनी क्षमता अनुसार उसे hold करके रखते हो और फिर अच्छा ROI मिलने पर उसे बेच देते हो इसे ही हम Investing का नाम भी दे देते हैं ।

Scalping Trading

इसका मतलब है कि जिस तरह Stock Market में शेयर को खरीद कर फिर उसके बढ़ने की आशा की जाती है लेकिन scalping trading में ऐसा कुछ नहीं होता क्योंकि इसमें लोग तुरंत प्रॉफिट बुक करते हैं।

यह short-term के अंतर्गत आती है जिसमें केवल कुछ मिनटों में ही शेयर को बेचकर Profit कमा लिया जाता है। आपको बता दें कि यह Intraday Trading से थोड़ी अलग है।

Algo Trading

Algo trading में लोगों की जरूरत नहीं होती है बल्कि कंप्यूटर्स में कुछ algorithms और software के द्वारा automatic ट्रेडिंग की जाती है.

Margin Trading

जब भी आप अपने ब्रोकर के द्वारा किसी पार्टिकुलर stock में आप मार्जिन लेकर ट्रेडिंग करते हैं तो उसे मार्जिन ट्रेडिंग या leverage trading भी बोला जाता है।

Margin का मतलब होता है ऐसा पैसा जो आपने दिया नहीं है बल्कि आपका ब्रोकर आपको ट्रेडिंग करने के लिए दे रहा है.

Margin trading की facility आजकल लगभग हर broking apps में दी जाती है। इनमें आपको 20% से लेकर 80% तक मार्जिन मिलता है।

लेकिन याद रहे मार्जिन ट्रेडिंग में Risk भी ज्यादा होता है क्योंकि अगर आपका loss होता है तो broker आप पर भारी charges भी लगा सकता है। इसीलिए मार्जिन ट्रेडिंग केवल तभी करें जब आपको अपनी ट्रेड पर पूरा विश्वास हो।

Muhurat Trading

जैसा कि नाम से ही पता चल रहा है किसी शुभ मुहूर्त पर की जाने वाली trading को मुहूर्त ट्रेडिंग कहते हैं. यह अधिकतर दिवाली के मौके पर की जाती है जिसमे किसी निश्चित शुभ समय के दौरान इस ट्रेडिंग को किया जाता है।

आशा है आपको हमारे द्वारा लिखा हुआ लेख जरूर पसंद आएगा इस लेख को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें लेख को शुरू से लेकर अंत तक पढ़ने के लिए आपका ह्रदय से बहुत बहुत आभार हमारे Premium Telegram Group से जुड़ने के लिए लिंक पर क्लिक करें 👇

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Share Market kya hota hai ?

शेयर बाजार, जिसे हम Share Market भी कहते हैं, एक ऐसा Market Place जहां पर Companies अपने Stocks या Public को Offer करती हैं और लोगो को मौका देती हैं अपनी Company में निवेश करने का ।

Share क्या होता है ?

शेयर मतलब हिस्सा। जब आप शेयर बाजार में किसी कंपनी का शेयर खरीदते हैं तो इसका मतलब है कि आपने उस कंपनी में हिस्सेदारी खरीदी है और अब आप उस कंपनी के कुछ हिस्से के मालिक बन चुके हैं।

Trading kya hota hai ?

Trading वह प्रक्रिया है जिसमें मुनाफा कमाने के लिए वस्तुओं और सेवाओं को खरीदा या बेचा जाता है।

Types Of Trading In Hindi

Trading दो प्रकार की होती है Long Term Trading और Short Term Trading

1 thought on “शेयर मार्केट क्या है / What is Share Market in Hindi ?”

Leave a Comment